publications2
 

वार्षिक रिपोर्ट

केन्द्रीय रेशम बोर्ड(केरेबो) देश में रेशम उत्पादन एवं रेशम उत्पादन उद्योग के विकास के लिए संसद के एक अधिनियम (1948 की अधिनियम सं 61) द्वारा वस्त्र मंत्रालय, भारत सरकार के अधीन स्थापित सांविधिक निकाय है।

 भारत सभी चार रेशम की प्रजाति नामत: पालतू शहतूत रेशम(बोम्बिक्स मोरी), अर्ध पालतू एरी रेशम (फिलोसोमिया रिसिनी), वन्य तसर रेशम (अंथेरिया माइलिटा) तथा विशिष्ट मूगा रेशम (अंथेरिया अस्सामा) वन्य सुनहला रेशम भारत का अनुपम उत्पाद है । रेशम उत्पादन प्रतिवर्ष 7.65 मिलियन व्यक्तियों के रोजगार सृजन करने के साथ अपने सभी चरणों में एक श्रमिक आधारित उद्योग है । चूँकि रेशम उत्पादन में श्रमिक बल भागीदारी दर (एलएफपीआर) अन्य समान ग्रामीण व्यवसाय की तुलना में काफी आगे है, इसलिए इसमें गरीबी उन्मूलन के लिए महत्वपूर्ण योगदान है जिससे समग्र विकास की राष्ट्रीय कार्यसूची को प्राप्त किया जा रहा है ।
आगे पढ़ें ........
                  वार्षिक प्रतिवेदन 2016-17 अंग्रेजी रूपांतरण (3.0mb)    आवरण पृष्ठ 
                                                                   हिन्दी रूपांतरण (4.5mb)


 

                  वार्षिक प्रतिवेदन 2015-16     अंग्रेजी रूपांतरण     Part1      Part2      आवरण पृष्ठ
                                                                    हिन्दी रूपांतरण      Part1       Part2




                 वार्षिक प्रतिवेदन 2014-15    अंग्रेजी रूपांतरण       हिन्दी रूपांतरण    भाग1     भाग2
                                                     ग्राफ एवं चार्ट         ग्राफ एवं चार्ट



                   वार्षिक प्रतिवेदन 2013-14         हिन्दी रूपांतरण     अंग्रेजी रूपांतरण
                                                           ग्राफ एवं चार्ट        
ग्राफ एवं चार्ट

 




                       
वार्षिक प्रतिवेदन 2012-13    (a) भाग-I,  (b) भाग-II