सूचना प्रौद्योगिकी पहल


एमकिसान

केरेबो ने एमकिसान वेब पोर्टल का उपयोग करते हुए कृषकों को उनके मोबाइल दूरभाष के माध्यम से वैज्ञानिक सलाह प्रदान करने के लिए सूचनाओं के प्रसार के लिए वैज्ञानिकों एवं विशेषज्ञों की पहुँच को व्यापक बनाया है .........mkisan.gov.in

मेरी सरकार

केरेबो ने “देश एवं विदेश में भारतीय रेशम उत्पादों की मांग किस प्रकार बढ़ाया जा सकता है” विषय पर मेरी सरकार पोर्टल में एक खुली चर्चा प्रारंभ की है........... www.mygov.in

सिल्क्स वेब पोर्टल

रेशम उत्पादन के उन्नयन के लिए संभाव्य अनुपयोगी भूमि के विश्लेषण तथा चयन के लिए सुदूर संवेदन व जीआईएस का उपयोग करते हुए 26 राज्यों में स्थित 108 जिलों को शामिल करते हुए एक वेब पोर्टल सेरिकल्चर इन्फॉरमेशन लिंकेज व नॉलेज सिस्टम (सिल्क्स) को विकसित किया गया है ।...silks.csb.gov.in

“जीआईएस प्रौद्योगिकी के नवीनतम उपयोग” संवर्ग के अंतर्गत सिल्क्स प्रोजेक्ट को वर्ष 2014-15 के रजत ई-शासन पुरस्कार से सम्मानित किया गया ।  Innovative use of  GIS Technology 

सेरी5के

सेरी5के को पूरा भारत के द्विप्रज समूह कृषकों के आँकड़ा आधार के रूप में डिजाइन कर विकसित किया गया है ।

एसएमएस द्वारा दर

रेशम उत्पादों की दर एसएमएस द्वारा उपलब्ध कराई जाती है । द्विप्रज समूह कृषकों को अपने मोबाइल पर एसएमएस के माध्यम से दैनिक मूल्य की जानकारी मिलती रहेगी................ कृपया संपूर्ण विवरण के लिए यहाँ क्लिक करें...  Please click here  for complete details

सिल्क मार्क
ई-बाजार पोर्टल

भारतीय रेशम के उन्नयन के लिए रेशम बुनकरों एवं रेशम समूहों के उद्यमियों के लिए सामाजिक बाज़ार स्थान............silkmark.gocoop.com